अयोध्या मामले पर सिंधिया ने कहा- सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वागत योग्य

अयोध्या मामले पर सिंधिया ने कहा- सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वागत योग्य

ग्वालियर. कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया सोमवार को ग्वालियर पहुंचे। वह दिल्ली से ट्रेन से ग्वालियर पहुंचे, जहां पर बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। मीडिया से बातचीत में अयोध्या मामले पर सिंधिया ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वागत योग्य है। राजनीति अब समाप्त हो गई है और अमन चैन और आपसी सद्भाव कायम है। अब प्रगति और विकास के मुद्दे पर काम होगा।

इसी मामले में दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर सिंधिया ने कहा कि किसी के बयान पर कोई प्रतिक्रिया नहीं देता। मीडिया ने जब उनसे मध्यप्रदेश पीसीसी चीफ बनने पर सवाल किया तो ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले जनसेवा और सेवाभाव के लिए काम करता हूं, किसी पद के लिए नहीं।

जनमत भाजपा व शिवसेना को मिला है

महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में प्रभारी रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि महाराष्ट्र में सरकार को लेकर बने असमंजस पर सिंधिया ने कहा कि इसमें दो राय नहीं है कि जनमत भाजपा और शिवसेना गठबंधन को मिला है। अब बड़ी विचित्र स्थिति बन गई है, ज्योतिरादित्य सिंधिया से जब दिग्विजय सिंह के बाबरी विध्वंस के आरोपियों को सजा देने वाले बयान के बारे में पूछा गया तो सिंधिया ने चुप्पी साध ली। इस पर सिंधिया ने इतना ही कहा कि वे किसी के ट्वीट का उत्तर नहीं देते हैं, जो कहते हैं खुद कहते हैं।

क्या बोले थे दिग्विजय सिंह
इससे एक दिन पहले कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने अयोध्या मामले में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर रविवार को एक ट्वीट कर कहा था कि फैसले का स्वागत लेकिन बाबरी विध्वंस करने वाले आरोपियों को सजा क्या मिलेगी। इनका ये ट्वीट वायरल हो रहा है।

खाद्य मंत्री ने सिंधिया को किया प्रणाम

ज्योतिरादित्य सिंधिया जब ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर पहुंचे तो उनका स्वागत करने के लिए मध्यप्रदेश के खाद्य मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर भी पहुंचे थे। मंत्री ने ज्योरादित्य सिंधिया के सामने झुककर दंडवत प्रणाम किया। कुछ ही देर में मंत्री द्वारा सिंधिया के सामने पूरी तरह झुककर प्रणाम करते वीडियो वायरल होने लगा। जब कांग्रेस नेताओं से मंत्री द्वारा किए गए इस प्रणाम को लेकर सवाल हुए तो उन्होंने कहा कि राजस्थान में खम्मा घणी की इसी तरह प्रणाम करने की परंपरा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *