संवाददाता आकाश मिश्रा की रिपोर्ट-

जगदलपुर । नगरीय निकाय चुनाव 21 दिसंबर को हैं, भाजपा और कांग्रेस दोनों पार्टियों द्वारा टिकट वितरण के बाद से पार्षद के दावेदारों में घमासान मचा हुआ है। नगर के बलिराम कश्यप वार्ड में भी यही नज़ारा देखने को मिला। जब हम वहां पहुंचे तो वार्ड के लोगों ने कांग्रेस की उम्मीदवार सफीरा साहू का विरोध करते हुए एक स्वर में कहा कि कांग्रेस से जिस उम्मीदवार को टिकट दी गई है उसकी अपेक्षा अब्दुल करीम को टिकट दी जानी चाहिए थी जो कि दो बार के पार्षद हैं और मोहल्ले में उनकी अच्छी पकड़ है। हर दुख-सुख में वे लोगों के साथ खड़े रहते हैं, बलिराम कशयप वार्ड में वे काफी लोकप्रिय हैं।

वार्ड के लोगों का कहना है कि सफीरा साहू अंबेडकर वार्ड की रहने वाली है उसे हमारे वार्ड में शिफ्ट किया जा रहा है। जबकि हमारे वार्ड के अब्दुल करीम को टिकट नहीं दी गई जो कि प्रबल दावेदार हैं। जब अब्दुल करीम ने निर्दलीय लड़ने का ऐलान किया तो अज्ञात शिकायत को आधार बनाकर अब्दुल करीम की बेकरी पर छापा मारा गया। छापे के दौरान वहां मौजूद महिलाओं ने बताया कि कल अब्दुल करीम की बेकरी में छापा मारा गया। फ़ूड अधिकारी आए थे उन्होंने अब्दुल करीम से कहा कि आपकी शिकायत आई है। जब अब्दुल करीम ने पूछा कि किसने शिकायत की है तो अधिकारी ने कहा कि आपको हम शिकायतकर्ता का नाम नहीं बता सकते। वे मैदा और शक्कर का सैंपल ले गए। अधिकारी 6 पैकेट मैदा और दो पैकेट शक्कर सील करके चले गए। उसी मैदे का एक ट्रक किसान बेकरी और सीगो बेकरी में एक साथ ही उतरा था लेकिन सिर्फ अब्दुल करीम की बेकरी पर ही छापा मारा गया।

लोगों का कहना है कि अब्दुल करीम का जनाधार है और यदि वे निर्दलीय चुनाव लड़े तो सफीरा साहू हार जाएगी। इसलिए राजनीतिक और प्रशासनिक दबाव अब्दुल करीम पर बनाया जा रहा है और निर्दलीय चुनाव लड़ने की सूरत में बेकरी बन्द करवाने की धमकी दी जा रही है। जिस तरीके से अब्दुल करीम को डराने का प्रयास किया जा रहा है उसको लेकर भी वार्ड के लोगो में काफी आक्रोश है। उनका कहना है कि वे चुनाव का बहिष्कार करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here