Live India24x7

Search
Close this search box.

जल स्त्रोत हमारी धरोहर हैं, बेहतर कल के लिए इन्हें सहेजना जरूरी- मंत्री श्री सिलावट

जल गंगा संवर्धन अभियान”

अमरावद में जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट तथा विधायक डॉ चौधरी के आतिथ्य में श्रमदान तथा पौधरोपण कार्यक्रम सम्पन्न

अरविंद पटेल लाइव इंडिया ब्यूरो जिला इंदौर

इंदौर, 13 जून 2024

जीवन का आधार जल है, इसके लिए बिना जीवन संभव नहीं है। जल स्त्रोत नदी, तालाब, कुएं, बावड़ी, जलाशय यह सभी हमारी धरोहर हैं और हमें इनको सहेजना है। जल स्त्रोतों के संरक्षण और संवर्धन का मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने जो संकल्प लिया है, यह पूरे मध्यप्रदेश का संकल्प है। यह विचार जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने रायसेन जिले के ग्राम अमरावद में जल गंगा संवर्धन अभियान अंतर्गत आयोजित श्रमदान तथा पौधरोपण कार्यक्रम में व्यक्त किए। कार्यक्रम के प्रारंभ में जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट तथा सांची विधायक डॉ. प्रभुराम चौधरी द्वारा दीप प्रज्जवलित कर शुभारंभ किया।

जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि जल स्त्रोतों के संरक्षण, संवर्धन हेतु विश्व पर्यावरण दिवस 05 जून से शुरू हुआ यह जल गंगा संवर्धन अभियान गंगा दशहरा 16 जून तक चलेगा। सभी भाई-बहन जल स्त्रोतों के संरक्षण और संवर्धन में योगदान दें। उन्होंने कहा कि जल गंगा संवर्धन अभियान वर्तमान समय में बेहद जरूरी है। यह अभियान जल स्त्रोतों के संरक्षण और संवर्धन के साथ ही पर्यावरण के लिए भी लाभदायी है। इसमें नदी, तालाब, कुएं, बावड़ी आदि जल संरचनाओं की सफाई कर, जीर्णोद्धार कर उपयोगी बनाया जा रहा है। जल संरचनाओं के तल में जो गाद जमा हो गई है, उसे निकालकर गहरीकरण भी किया जा रहा है। जिससे कि बारिश का अधिक जल इन सरंचनाओं में संग्रहित हो।

जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि सरकार का प्रयास है कि बारिश के अधिक से अधिक जल को संग्रहित किया जाए, इससे भू-जल स्तर में वृद्धि होगी। हम इतना पानी का संचय कर लें कि हर गांव, हर शहर पानी के लिए अत्मनिर्भर हो जाए। उन्होंने सभी नागरिकों से अपील की है कि वे अपने स्तर पर भी जल संग्रहण के लिए छोटे छोटे प्रयास कर सकते हैं। जल संसाधन मंत्री ने कहा कि पर्याप्त मात्रा में सिंचाई होने से फसल उत्पादन में वृद्धि होती है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2003-04 के पहले प्रदेश में लगभग सात लाख हेक्टेयर क्षेत्र सिंचित था और आज लगभग 47 लाख हेक्टेयर में सिंचाई होती है। मुख्यमंत्री डॉ यादव द्वारा वर्ष 2025 तक प्रदेश में सिंचाई का रकबा 65 लाख हेक्टेयर करने का लक्ष्य लेकर काम किया जा रहा है। जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट ने केन-बेतवा लिंक परियोजना का उल्लेख करते हुए कहा कि इस परियोजना से बुंदेलखण्ड की नई तस्वीर देखने को मिलेगी। केन-बेतवा लिंक परियोजना से लगभग आठ लाख 11 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी। लगभग 43 लाख लोगों को शुद्ध पेयजल मिलेगा और 103 मेगावाट बिजली बनेगी।

जल गंगा संवर्धन अभियान में जनसहभागिता जरूरी- विधायक डॉ चौधरी

कार्यक्रम में सांची विधायक डॉ प्रभुराम चौधरी ने कहा कि यह रायसेन जिले का सौभाग्य है कि जल गंगा संवर्धन अभियान का शुभारंभ मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव द्वारा औबेदुल्लागंज के समीप बेतवा नदी के उद्गम स्थल झिरी से किया गया है। इसके अतिरिक्त अमरावद में भी कुछ समय पहले पंचायत एवं ग्रामीण विकास तथा श्रम मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल द्वारा श्रमदान किया गया था और आज जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट की उपस्थिति में कार्यक्रम सम्पन्न हो रहा है। जल गंगा संरक्षण अभियान, महत्वपूर्ण अभियान है और इसमें सभी नागरिकों की सहभागिता जरूरी है। हम सभी को जल संरक्षण के लिए सामूहिक प्रयास करना होगा। नदी, तालाबों, कुओं, बावड़ियों के साथ ही सभी जल स्त्रोंतों की सफाई, गहारीकरण एवं जीर्णोद्धार करना होगा जिससे कि अधिक से अधिक पानी संग्रहित किया जा सके। कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष श्री यशवंत मीणा तथा भाजपा जिला अध्यक्ष श्री राकेश शर्मा ने भी संबोधित किया। कलेक्टर श्री अरविंद दुबे द्वारा जिले में जल गंगा संवर्धन अभियान के तहत किए जा रहे कार्यो के बारे में विस्तार से अवगत कराया गया। इस अवसर पर सांची जनपद अध्यक्ष श्रीमती अर्चना पोर्ते, ग्राम पंचायत बनखेड़ी की सरपंच श्रीमती खिनिया बाई, जिला पंचायत सीईओ श्रीमती अंजू पवन भदौरिया, एएसपी श्री कमलेश कुमार, कार्यपालन यंत्री जल संसाधन श्रीमती प्रतिभा सिंह सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

जल स्त्रोतों के संरक्षण और संवर्धन की दिलाई शपथ

कार्यक्रम में जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट तथा सांची विधायक डॉ चौधरी ने कार्यक्रम में उपस्थित जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों, कर्मचारियों तथा नागरिकों को शपथ दिलाई कि जलाशय को अनमोल सम्पदा मानकर इसके संरक्षण, संवर्धन का प्रयास करूगां। जलाशय में किसी प्रकार का कचरा नहीं करेंगे। जलाशय के जल को साफ बनाए रखने हेतु पॉथीलिन का उपयोग नहीं करेंगे तथा जल संवर्धन हेतु वृक्षारोपण करेंगे। जलाशय को जीवंत मानकर उसकी स्वच्छता एवं संरक्षण का पूर्ण रूप से ध्यान रखूंगा।

डेम पिचिंग कार्य के लिए किया श्रमदान

जल गंगा संवर्धन अभियान के तहत ग्राम अमरावद में आयोजित कार्यक्रम उपरांत जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, सांची विधायक डॉ प्रभुराम चौधरी, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री यशवंत मीणा, कलेक्टर श्री अरविंद दुबे सहित स्थानीय जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों द्वारा अमरावद डेम की पिचिंग कार्य हेतु श्रमदान किया गया।

जल संसाधन मंत्री सहित जनप्रतिनिधियों ने किया पौधरोपण

जल गंगा संवर्धन अभियान के तहत ग्राम अमरावद में आयोजित कार्यक्रम उपरांत जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, सांची विधायक डॉ प्रभुराम चौधरी, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री यशवंत मीणा सहित अन्य जनप्रतिनिधियों द्वारा पौधरोपण भी किया गया। जल संसाधन मंत्री द्वारा सभी से पौधरोपण कर उनकी देखरेख की अपील भी की गई, जिससे कि पौधे वृक्ष का आकार ले सकें।

liveindia24x7
Author: liveindia24x7