Live India24x7

Search
Close this search box.

पलायन को मजबूर इंदौर के रहवासी, घर के बाहर लगाए “मेरा घर बिकाऊ है” के पोस्टर

 इंदौर में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू होने के बावजूद भी गुंडों के डर से लोग पलायन करने पर मजबूर है। अब तक 25 से ज्यादा परिवार पलायन कर चुके हैं।

Indore News : मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू होने के बावजूद भी गुंडों के डर से लोग पलायन करने पर मजबूर है। कई लोगों ने अपने घरों के बाहर “मेरा घर बिकाऊ है” के पोस्टर लगा दिए हैं। इतना ही नहीं पिछले ढाई साल में 25 परिवार इंदौर से पलायन कर चुका है। वहीं अन्य कई रहवासियों ने भी डर की वजह से अपने घरों के बाहर पोस्टर लगा दिए हैं।

लोगों का कहना है कि अनैतिक गतिविधियों, गुंडागर्दी और नशाखोरी से गुंडे हमें परेशान कर चुके हैं। इसकी शिकायत भी हम कई बार कर चुके हैं लेकिन अब तक कोई सुनवाई नहीं की गई। पूरे सिस्टम से हम लोग थक चुके हैं। कई परिवार अब तक घर छोड़ के वापस जा चुके हैं। हाल ही में इंदौर के राजेंद्र नगर के ट्रेजर टाउन से ये मामला सामने आया है।

बताया जा रहा है कि ट्रेजर टाउन में बनी EWS टाउनशिप में रहने वाले करीब 1 दर्जन से ज्यादा परिवारों ने अपने घरों के बाहर “मेरा मकान बिकाऊ है” के पोस्टर लगा दिए हैं। यहां रहने वाले सभी लोग गुंडों के राज से परेशान है। इस जगह पर शिकायत करने के बड्ड भी पुलिस की पेट्रोलिंग भी नहीं होती है।

ऐसे में लोगों के पास घर छोड़ कर जाने के अलावा और कोई रास्ता नहीं बचा है। दो दिन पूर्व ही रहवासी प्रशांत पांडे, संदीप नामदेव, सुनेर धनगड़, धीरेंद्र नामदेव, प्रकाश खातवे, त्रिलोकसिंह पटेल, प्रकाश देपालपुरे, देवेंद्रसिंह, सपना आर्य, लक्ष्मीबाई सहित 12 लोगों ने अपने घरों के बाहर पर्चे लगाए और घर बेचने की मज़बूरी बी मीडिया से बातचीत करते हुए बताई।

पोस्टर में लिखा है 

मेरा घर बिकाऊ है क्योंकि हमें पलायन के लिए मजबूर किया जा रहा है। खराब कानून व्यवस्था, लॉयन ऑर्डर, बिल्डर की उदासीनता और तानाशाही, धमकी देना कोई सुनवाई ना होना, पुलिस की पेट्रोलिंग सुन्न होना, चारों तरफ गंदगी और क्राइम का होना, अवैध किरायेदारों का अराजकता फैलाना,नशाखोरी आवारागर्दी गाली गलौज अश्लीलता चरम पर होना,मौलिक अधिकारों का रोज हनन होना, मारपीट खुलेआम गुंडागर्दी, की बातें करना कोई अच्छे काम ना होने देना जिसके कारण पलायन करने के लिए हम मजबूर हैं।

स्कूल में पढ़ने वाली छात्रा ने बताया घर से बाहर निकलने पर डर लगता है। स्कूल जाते समय आवारा लड़के सीटी बजाते हैं, गाना गाते हैं, आते जाते छेड़खानी का शिकार होना पड़ता है, अब तो स्कूल जाने में भी डर लगता है।

रहवासियों के पलायन की खबर सामने आने के बाद जोन-1 के डीसीपी आदित्य मिश्र भारी बरसात में टाउनशिप के रहवासियों से मिलने के लिए पहुंचें। उन्होंने रहवासियों से चर्चा की और सभी बात जानी। उसके बाद लाइट, सीसीटीवी, पेवर ब्लाक लगवाने को लेकर बात कही और बिल्डर मनीष कालानी के प्रतिनिधि को भी चेताया। अब जल्द ही इस कार्य को पूरा करना होगा साथ ही सभी किरायदारों का सत्यापन भी करवाया जाएगा।

liveindia24x7
Author: liveindia24x7

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज