Live India24x7

Search
Close this search box.

रसधान गौशाला परिसर में गायों के शवों दफनाने के लिए खोदा गया गडढा मरने से पहले ही मवेशी को दफनाने के लिए खोद दिए गये गडढे

कानपुर देहात राजपुर ब्लॉक की रसधान गौशाला में बदहाली की खबर प्रकाशित होने पर अफसरों ने गौशाला का निरीक्षण करने पर खामियां मिलने के वावजूद जिम्मेदारों पर कार्यवाही करना मुनासिब नहीं समझा जबकि एसडीएम डाॅ पूनम गौतम के निर्देश पर तहसीलदार प्रिया सिंह व राजपुर बीडीओ गंगाराम ने मंगलवार को गौशाला का निरीक्षण किया था। निरीक्षण में अफसरों को एक गाय मृत मिली थी जबकि एक गाय मरणासन्न हालत में जमीन पर तड़प रही थी। इतना ही नहीं गौशाला परिसर में मरे हुए गोवंशो के अवशेष भी मिले थे। गौशाला में कीचड़ और गंदगी का अंबार लगे थे। एक गाय कीचड़ युक्त पानी पीते भी मिली इसके अलावा गौशाला की चहारदीवारी के बाहर जेसीबी से दो गडढे भी खोदे गये थे। गौशाला में खामियां छुपाने के लिए तीन घंटे तक अंदर से तालाबंदी भी की गई। निरीक्षण में बदहाली की तस्वीरें मिलने के बाद भी अफसरों ने जिम्मेदार सचिव व प्रधान के खिलाफ कार्रवाई करना मुनासिब नहीं समझा। तहसीलदार प्रिया सिंह ने पशु चिकित्सक की टीम बुलवाकर मृत गाय का पोस्टमार्टम तो करवा दिया। हालांकि गौशाला परिसर में पहले से गायों को दफनाने के लिए खोदे गये गडढे मिलने पर कार्रवाई नहीं की। ऐसे में सवाल यह है कि इस गोशाला में गायों के मरने से पहले की उनकी कब्रगाह बनाने के लिए गडढे आखिर क्यो खोदे गये थे। ग्रामीणों की माने तो गौशाला में एक महीने में दस से अधिक गोवंशो की मौते हो चुकी है। मृत गायों के अवशेष को गौशाला परिसर में ही गडढे खोदकर दफना दिया जाता है। इस बात की पुष्टि गौशाला में तैनात केयर टेकर रामप्रकाश व विश्वनाथ ने भी की है। इधर मंगलवार को गौशाला का निरीक्षण में अफसरों को गौशाला में जलभराव कीचड़ भी मिला था बीडीओ गंगाराम ने सचिव दीक्षा अवस्थी को सफाई कराने के निर्देश भी दिए और लापरवाह सचिव और प्रधान राजेन्द्र प्रसाद के खिलाफ कार्रवाई की बात भी कही हालांकि बुद्धवार गौशाला की कीचड़ और गंदगी ज्यूं के त्यूं रखी। गौशाला में सफाई नहीं कराई गई और न ही हरे चारे का प्रबंध ऐसे भी गौवंशो के संरक्षण में अफसर लापरवाही बरत रहे हैं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सख्त निर्देशों के वावजूद गौशाला में अनियमितताएं बरती जा रही है। मामले में बीडीओ गंगाराम ने बताया कि निरीक्षण में मिली खामियों के बावत सचिव दीक्षा अवस्थी व प्रधान राजेन्द्र प्रसाद से स्पष्टीकरण तलब किया गया है। जल्द ही लापरवाही की पुष्टि होने पर जल्द ही कार्यवाही अमल में लाई जायेगी।

liveindia24x7
Author: liveindia24x7

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज