Live India24x7

Search
Close this search box.

धार ज़िले में लगातार तापमान बढ़ता हुआ, पर्यावरण के लिए ठोस कार्ययोजना की आवश्यकता है

धार, ब्यूरो चीप सुनील कुमार विश्वकर्मा

धार । वर्तमान परिस्थितियों देखते हुए लगता है कि वह दिन दूर नहीं जब तापमान अपनी चरम सीमा पर होगा , मानवीय जीवन के लिए सहन करना मुश्किल हो जाएगा, विकास की दौड़ में पर्यावरण जैसा महत्वपूर्ण बिंदु हम भूल चुके है, इससे पहले की परिस्थितियां हमारे हाथ से निकल जाए ,हमें ठोस कार्ययोजना बनानी पड़ेगी, इस कार्य में शासन -प्रशासन की ओर देखना की कुछ करेंगे? उचित नहीं है,, समाज के सभी वर्ग को सामाजिक स्तर पर कार्य योजना बनानी पड़ेगी, सामाजिक संगठन को आगे आकर पर्यावरण के क्षेत्र में कार्य करना पड़ेगा ,तभी इस पर कार्य संभव है, वर्तमान में धीरे -धीरे तापमान ,45 डिग्री के आस-पास पहुँचने को है, इसको, 55 डिग्री होने में ज़्यादा समय नहीं लगने वाला है, अगर शासन स्तर से हर ग्राम पंचायत को ,100 वृक्ष का टारगेट दिया जाए, और इसको मंदिर ,मुक्तिधाम , शासकीय विद्यालय, या शासकीय रिक्त भूमि पर तार फ़ेंसिंग करके वृक्षारोपण किया जाए, जिसमें गाँव के वरिष्ठ लोगों की समिति बनाकर किया जाए, इससे पर्यावरण मैं फ़ायदा भी मिलेगा , हमारे इन सार्वजनिक स्थलों का सौंदर्यीकरण भी होगा, और वरिष्ठ लोगों के देख -रेख में पेड़ पौधे भी सुरक्षित रहेंगे, इसके 90 प्रतिशत सुरक्षित होने की पूरी -पूरी संभावना रहेगी, क्योंकि सभी महत्वपूर्ण स्थलो पर सौंदर्यीकरण होने से संपूर्ण गाँव इसका सहयोग एवं इनकी उपयोगिता को समझेंगे, अगर समय रहते हम यहाँ कार्य नहीं कर पाए, तो आगे आने वाले समय में इससे पार पाना मुश्किल एवं असंभव हो जाएगा, पेड़ पौधे
ही हमारे लिए आवश्यक है, हमारी आने वाली पीढ़ी को हम एक स्वस्थ पर्यावरण नहीं दे पाए, तो वे कभी हमें माफ़ नहीं करेंगे, इसलिए सभी से विशेष आग्रह है कि जहाँ कही जगह मिले वहाँ पर पेड़ लगाने का प्रयास अवश्य करें, आओ मिलकर करें, वसुंधरा की रक्षा और ख़ूबसूरत धरती हमारे सुरक्षित मानवीय जीवन के लिए आवश्यक है ,हर जीव जन्तु एवं पक्षी वर्तमान गर्मी के कारण परेशान हैं, इनके लिए अपनी घर की छत पर प्लास्टिक के टॉप में पानी भरकर रखे ताकि उनकी प्यास बुझाई जा सके, पेड़ पौधे है तो धरती पर जीवन संभव है।

liveindia24x7
Author: liveindia24x7

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज