Live India24x7

Search
Close this search box.

जेल से रिहा होने के पश्चात एक अच्छा नागरिक बनकर समाज एवं देश की प्रगति में अहम योगदान देने का प्रयास करें: डीजे मधुसूदन मिश्र

 

 

 

कन्नौद में डीजे ने न्यायालय एवं जेल का निरीक्षण कर लिया सुविधाओं का जायजा,अभिभाषक संघ से भी की मुलाकात

स्टोर रूम, महिला सेल, जेल डिस्पेंशरी, बंदियों के बैरक, पानी एवं रोशनी व्यवस्था सहित अन्य बिन्दुओं का लिये जायजा

कन्नौद । :राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश-अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण मधुसूदन मिश्र ने उप जेल कन्नौद का निरीक्षण किया। इस अवसर पर प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश धीरासिंह मंडलोई ,द्वितीय पर सत्र न्यायाधीश अमित निगम, श्रीमति मीना शाह व्यवहार न्यायाधीश वरिष्ठ खंड कन्नौद, श्रीमति नंदिनी उईके व्यवहार कनिष्ठ खंड , कुंदन कछवाऐ व्यवहार न्यायाधीश कनिष्ठ खंड , सरफराज खान व्यवहार न्यायाधीश कनिष्ठ खंड एवं श्री मनोज भंवर अध्यक्ष अभिभाषक संघ, उपाध्यक्ष राम प्रसाद यादव, भी विशेष रूप से उपस्थित थे। निरीक्षण के दौरान कन्नौद न्यायालय के कोर्ट रूम, माल खाना, नकल विभाग, ई सेवा केंद्र आदि का निरीक्षण किया और उचित आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए । साथ ही अभिभाषक कक्ष में अधिवक्ताओं से मुलाकात भी की ।
उक्त जानकारी देते हुए एडवोकेट शैलेंद्र पांचाल ने बताया कि
जेल निरीक्षण के दौरान प्रधान जिला न्यायाधीश ने पाकशाला, विडियों कान्फ्रेंसिंग कक्ष, स्टोर रूम, महिला सेल, जेल डिस्पेंशरी, बंदियों के बैरक, पानी एवं रोशनी की व्यवस्था, डाक्टरों की उपलब्धता, बीमार बंदियों के उपचार की सुविधाएं और दवाइओं की उपलब्धता की जांच की गई। प्रधान जिला न्यायाधीश ने पुरुष एवं महिला बंदियों के पोषण- भोजन, स्वास्थ्य एवं अन्य आवश्यक सुविधाओं तथा उनके प्रकरणों की प्रगति के संबंध में विस्तार से जानकारी ली। प्रधान न्यायाधीश प्रभात कुमार मिश्रा द्वारा बंदियों की समस्याओं को सुना गया एवं त्वरित निराकरण के लिए संबंधितों को निर्देश दिये गये।
निरीक्षण के दौरान प्रधान जिला न्यायाधीश ने भोजन की गुणवत्ता, डिस्पेंशरी में रोगी बंदियों को प्रदान की जाने वाली दवाइओं के संबंध में भी निरीक्षण किया। बंदियों को संबोधित करते हुए प्रधान जिला न्यायाधीश मिश्र ने कहा कि सभी बंदी देश के प्रगति में महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं। यदि भूलवश कोई अपराध आपसे कारित हो गया है तो जेल से रिहा होने के पश्चात एक अच्छा नागरिक बनकर समाज की एवं देश की प्रगति में अहम योगदान देने का प्रयास करें। निरीक्षण के दौरान प्रधान न्यायाधीश फैमिली कोर्ट सरिता वाधवानी ,उप जेल अधीक्षक गिरिजा शंकर दुबे , नायब नाजिर योगेश चौहान सहित समस्त जेल कर्मचारी, पैरा लीगल वालंटियर एवं जेल में निरुद्ध बंदीगण मौजूद रहे। उक्त जानकारी बार के मीडिया प्रभारी एडवोकेट शैलेंद्र पांचाल ने दी।

फ़ोटो 01 जिला न्यायाधीश मिश्र जेल कन्नौद का निरीक्षण करते हुए ।
02 जिला न्यायाधीश कैदियों से मुलाकात करते हुए

liveindia24x7
Author: liveindia24x7

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज