Live India24x7

Search
Close this search box.

स्कूल चले हम अभियान का जिला स्तरीय कार्यक्रम कन्या स्कूल धवारी में

 

 

 

 

लाइव इंडिया ब्यूरो चीफ तुलसीदास बैरागी

 

कोई भी बच्चा स्कूल जाने से नहीं रहे वंचित- गणेश सिंह

सतना : सांसद श्री गणेश सिंह ने कहा कि शिक्षा जीवन की अमूल्य निधि होती हैं। जो मनुष्य का जीवन पर्यन्त तक साथ देती है। उन्होंने कहा कि राज्य शासन द्वारा स्कूल चले हम अभियान चलाया जा रहा है। हम सब का प्रयास हो कि स्कूल जाने योग्य सभी बच्चे नियमित रूप से स्कूल जाएं और कोई भी बच्चा स्कूल जाने से वंचित नहीं रहे। सांसद श्री सिंह ने कहा कि यह केवल बच्चों के माता-पिता अभिभावक ही नहीं समाज के हर व्यक्ति की जिम्मेदारी है। सांसद श्री सिंह मंगलवार को शुरू हुए ‘स्कूल चले हम अभियान’ के प्रवेशोत्सव में जिला स्तरीय कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में जिला पंचायत की उपाध्यक्ष श्रीमती सुष्मिता सिंह परिहार, कलेक्टर श्री अनुराग वर्मा, सीईओ जिला पंचायत सुश्री संजना जैन, शिक्षा समिति के संयोजित सदस्य डॉ पंकज सिंह परिहार, डीपीसी विष्णु त्रिपाठी, स्कूल के प्राचार्य, शिक्षकगण एवं छात्राएं उपस्थित थे।
सांसद श्री सिंह ने कहा कि राज्य शासन द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में किए गए व्यापक सुधार और उन्नयन कार्यों से सरकारी स्कूलों में गुणवत्तापूर्ण आदर्श स्वरूप में शिक्षा दी जा रही है। उत्कृष्ट विद्यालयों एवं सीएम राइज स्कूलों में प्रवेश के लिए कड़ी प्रतियोगिताएं होती हैं। छात्र-छात्राओं और अभिभावकों का उत्साह सरकारी स्कूलों की तरफ उल्लेखनीय रूप से बढ़ा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में नई शिक्षा नीति लागू की गई है। वर्षों पुरानी और अंग्रेजो के जमाने की लॉर्ड मैकाले की शिक्षा पद्धति के स्थान पर नई शिक्षा नीति में व्यावहारिक रोजगारपरक और मानवीय मूल्यों तथा जीवन के आगे बढ़ने के मूल्य समाहित किए गए हैं।
सांसद श्री सिंह कहा कि प्रधानमंत्री की स्टार्टअप योजना से देश के शिक्षित नव जवानों को ग्रेजुएशन और तकनीकी शिक्षा के बाद विशेष योग्यता को उभार कर अनेक क्षेत्र में बेहतर कैरियर बनाने का अवसर मिला है। सांसद श्री सिंह ने कहा कि राज्य शासन द्वारा स्कूली बच्चों को मुफ्त शिक्षा के साथ निःशुल्क पुस्तक और पाठ्य सामग्री के अलावा आवश्यक संसाधन भी मुहैया कराए जा रहे हैं। शिक्षा के क्षेत्र में हर कोई योगदान करना चाहता है। आज की आवश्यकता है कि स्कूलों को समाज से जोड़ें और सुसंस्कृत, शिक्षित, सभ्य राष्ट्र के निर्माण में सहभागी बने। सांसद श्री सिंह ने शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कन्या धवारी के सरस्वती मंदिर में दीप प्रज्जवलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। उन्होंने प्रवेशोत्सव का शुभारंभ कर स्कूली छात्राओं को निःशुल्क पाठ्य-पुस्तकों का वितरण भी किया।
जिला पंचायत उपाध्यक्ष सुष्मिता सिंह परिहार ने कहा कि शिक्षा ऐसी निधि है, जो बांटने से बढ़ती है। उन्होंने छात्राओं से आग्रह किया कि उनकी नजर में स्कूल नहीं जाने वाले बच्चे ध्यान में आयें तो अपने शिक्षकों को बताएं और प्रोत्साहित कर उनका दाखिला स्कूल में करायें। जिला पंचायत उपाध्यक्ष ने कहा कि जिला शिक्षा समिति द्वारा बोर्ड परीक्षाओं में उत्कृष्ट स्थान लाने वाले छात्र-छात्राओं को सम्मानित और प्रोत्साहन के लिए विकासखंड स्तर पर नवाचार भी प्रारंभ किया गया है। शिक्षा समिति द्वारा सतना और मैहर जिले में शिक्षा का स्तर सुधारने सभी प्रयास निरंतर जारी रहेंगे।
कलेक्टर अनुराग वर्मा ने कहा कि स्कूल चले हम अभियान के मुख्यतः दो उद्देश्य हैं। पहला स्कूल नहीं जाने वाले बच्चों को स्कूल में दाखिला करायें और दूसरा जो बच्चे नियमित रूप से स्कूल जाते हैं, उन्हें नई कक्षाओं में पिछले एक वर्ष की समीक्षा के बाद उत्साह, नई ऊर्जा और उमंग के साथ पहले से बेहतर करने का संकल्प के साथ प्रवेश दिलायें। कलेक्टर ने कहा कि स्कूल शिक्षा कैरियर को चुनने और भविष्य को बेहतर बनाने की दिशा में आगे बढ़ने का महत्वपूर्ण भाग होती है। प्रोफेशनल कोर्सेस में ध्यान रखें कि यह पढ़ाई केवल जॉब के लिए नहीं, बल्कि बेहतर ज्ञान अर्जन से कैरियर को उत्कृष्ट बनाने के लिए है।
शिक्षा समिति के सहयोजित सदस्य डॉ पंकज सिंह परिहार ने कहा कि जिला पंचायत द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रयास किया जा रहे हैं। जिला पंचायत की शिक्षा समिति द्वारा ब्लॉक स्तर पर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले पांच छात्र-छात्राओं और उनके अभिभावकों के सम्मान का नवाचार भी प्रारंभ किया गया है। सीईओ जिला पंचायत सुश्री संजना जैन ने कहा कि शिक्षा दैनिक ज…

कोई भी बच्चा स्कूल जाने से नहीं रहे वंचित- गणेश सिंह

लाइव इंडिया ब्यूरो चीफ तुलसीदास बैरागी

सतना : सांसद श्री गणेश सिंह ने कहा कि शिक्षा जीवन की अमूल्य निधि होती हैं। जो मनुष्य का जीवन पर्यन्त तक साथ देती है। उन्होंने कहा कि राज्य शासन द्वारा स्कूल चले हम अभियान चलाया जा रहा है। हम सब का प्रयास हो कि स्कूल जाने योग्य सभी बच्चे नियमित रूप से स्कूल जाएं और कोई भी बच्चा स्कूल जाने से वंचित नहीं रहे। सांसद श्री सिंह ने कहा कि यह केवल बच्चों के माता-पिता अभिभावक ही नहीं समाज के हर व्यक्ति की जिम्मेदारी है। सांसद श्री सिंह मंगलवार को शुरू हुए ‘स्कूल चले हम अभियान’ के प्रवेशोत्सव में जिला स्तरीय कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में जिला पंचायत की उपाध्यक्ष श्रीमती सुष्मिता सिंह परिहार, कलेक्टर श्री अनुराग वर्मा, सीईओ जिला पंचायत सुश्री संजना जैन, शिक्षा समिति के संयोजित सदस्य डॉ पंकज सिंह परिहार, डीपीसी विष्णु त्रिपाठी, स्कूल के प्राचार्य, शिक्षकगण एवं छात्राएं उपस्थित थे।
सांसद श्री सिंह ने कहा कि राज्य शासन द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में किए गए व्यापक सुधार और उन्नयन कार्यों से सरकारी स्कूलों में गुणवत्तापूर्ण आदर्श स्वरूप में शिक्षा दी जा रही है। उत्कृष्ट विद्यालयों एवं सीएम राइज स्कूलों में प्रवेश के लिए कड़ी प्रतियोगिताएं होती हैं। छात्र-छात्राओं और अभिभावकों का उत्साह सरकारी स्कूलों की तरफ उल्लेखनीय रूप से बढ़ा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में नई शिक्षा नीति लागू की गई है। वर्षों पुरानी और अंग्रेजो के जमाने की लॉर्ड मैकाले की शिक्षा पद्धति के स्थान पर नई शिक्षा नीति में व्यावहारिक रोजगारपरक और मानवीय मूल्यों तथा जीवन के आगे बढ़ने के मूल्य समाहित किए गए हैं।
सांसद श्री सिंह कहा कि प्रधानमंत्री की स्टार्टअप योजना से देश के शिक्षित नव जवानों को ग्रेजुएशन और तकनीकी शिक्षा के बाद विशेष योग्यता को उभार कर अनेक क्षेत्र में बेहतर कैरियर बनाने का अवसर मिला है। सांसद श्री सिंह ने कहा कि राज्य शासन द्वारा स्कूली बच्चों को मुफ्त शिक्षा के साथ निःशुल्क पुस्तक और पाठ्य सामग्री के अलावा आवश्यक संसाधन भी मुहैया कराए जा रहे हैं। शिक्षा के क्षेत्र में हर कोई योगदान करना चाहता है। आज की आवश्यकता है कि स्कूलों को समाज से जोड़ें और सुसंस्कृत, शिक्षित, सभ्य राष्ट्र के निर्माण में सहभागी बने। सांसद श्री सिंह ने शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कन्या धवारी के सरस्वती मंदिर में दीप प्रज्जवलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। उन्होंने प्रवेशोत्सव का शुभारंभ कर स्कूली छात्राओं को निःशुल्क पाठ्य-पुस्तकों का वितरण भी किया।
जिला पंचायत उपाध्यक्ष सुष्मिता सिंह परिहार ने कहा कि शिक्षा ऐसी निधि है, जो बांटने से बढ़ती है। उन्होंने छात्राओं से आग्रह किया कि उनकी नजर में स्कूल नहीं जाने वाले बच्चे ध्यान में आयें तो अपने शिक्षकों को बताएं और प्रोत्साहित कर उनका दाखिला स्कूल में करायें। जिला पंचायत उपाध्यक्ष ने कहा कि जिला शिक्षा समिति द्वारा बोर्ड परीक्षाओं में उत्कृष्ट स्थान लाने वाले छात्र-छात्राओं को सम्मानित और प्रोत्साहन के लिए विकासखंड स्तर पर नवाचार भी प्रारंभ किया गया है। शिक्षा समिति द्वारा सतना और मैहर जिले में शिक्षा का स्तर सुधारने सभी प्रयास निरंतर जारी रहेंगे।
कलेक्टर अनुराग वर्मा ने कहा कि स्कूल चले हम अभियान के मुख्यतः दो उद्देश्य हैं। पहला स्कूल नहीं जाने वाले बच्चों को स्कूल में दाखिला करायें और दूसरा जो बच्चे नियमित रूप से स्कूल जाते हैं, उन्हें नई कक्षाओं में पिछले एक वर्ष की समीक्षा के बाद उत्साह, नई ऊर्जा और उमंग के साथ पहले से बेहतर करने का संकल्प के साथ प्रवेश दिलायें। कलेक्टर ने कहा कि स्कूल शिक्षा कैरियर को चुनने और भविष्य को बेहतर बनाने की दिशा में आगे बढ़ने का महत्वपूर्ण भाग होती है। प्रोफेशनल कोर्सेस में ध्यान रखें कि यह पढ़ाई केवल जॉब के लिए नहीं, बल्कि बेहतर ज्ञान अर्जन से कैरियर को उत्कृष्ट बनाने के लिए है।
शिक्षा समिति के सहयोजित सदस्य डॉ पंकज सिंह परिहार ने कहा कि जिला पंचायत द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रयास किया जा रहे हैं। जिला पंचायत की शिक्षा समिति द्वारा ब्लॉक स्तर पर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले पांच छात्र-छात्राओं और उनके अभिभावकों के सम्मान का नवाचार भी प्रारंभ किया गया है। सीईओ जिला पंचायत सुश्री संजना जैन ने कहा कि शिक्षा दैनिक ज…

liveindia24x7
Author: liveindia24x7