Live India24x7

Search
Close this search box.

चंडी माता मंदिर मे प्रसिध्य विशाल जाम सांवली पदयात्रा समिति की विशेष बैठक हुई सम्पन्न

धूमधाम से निकली जाएगी साल के अंतिम शनिवार को विशाल जाम सांवली पदयात्रा 

साल के अंतिम शनिवार को आयोजित होने वाली एव पांदुरना क्षेत्र में भक्ति और शक्ति का संचार करने वाली सबसे प्रसिद्ध विशाल जाम सांवली पदयात्रा की तैयारियों को लेकर आयोजक समिति द्वारा 26 नवम्बर को चंडिका माता मंदिर में विशेष बैठक का हुआ संपन्न जिसको लेकर क्षेत्र में समस्त ग्राम एव वार्ड के आयोजन करता को सूचना भेजकर बैठक में सुझाव लेकर 14 में वर्ष में होने वाली पदयात्रा मेरे राम अयोध्या आ रहे थीम पर पदयात्रा का आयोजन सम्पन्न कराने हेतु आयोजन समिति द्वारा तैयारिया करने का निर्णय लिया गया

विशाल हनुमान चालीसा पाठ यज्ञ के तहत प्रति शनिवार हो रहा 11 पाठ का आयोजन- पांदुरना क्षेत्र एवम नगर अत्यंत प्राचीन समय से धार्मिक परम्पराओ अनुरूप अपनी भक्ति में तल्लित रहने वाला क्षेत्र है, पांढुरना क्षेत्र में सबसे अधिक भक्त श्री राम भक्त हनुमान जी महाराज के भक्त है जहा ग्राम में हनुमान जी महाराज के मंदिर है वही पांडुरना नगर में ही टोटल 114 हनुमान मंदिर विद्यमान है, यही नही तो हनुमान जी महाराज के नाम पर पांडुरना नगर का सर्व प्रथम वार्डही हनुमंती वार्ड के नाम जाना जाता है, पांढुरना नगर में हनुमान जी महाराज के भक्त सर्वाधिक है, क्षेत्र की सबसे प्रसिध्य विशाल जाम सांवली पदयात्रा समिति द्वारा नगर में विशाल हनुमान चालीसा यज्ञ के तहत संकल्पित होकर नगर में विद्यमान हनुमान मंदिरो में प्रति शनिवार सामूहिक

संगीतमय हनुमान चालीसा के ग्यारह पाठ का आयोजन किया जाता है, इस पावन पाठ यज्ञ में नगर के युवा वर्ग की सर्वाधिक अपने प्रिय भगवान के मन्त्रमुग्ध हनुमान चालीसा पाठ में समिलित होते है, पाठ यज्ञ के तहत लगातार 300 सप्ताह पूर्व होते आ रहे है, जिसके तहत ढाई करोड़ बार हनुमान चालीसा के पावन पाठ का उच्चारण क्षेत्र हो चुका है, नगर के अंतिम शनिवार को आयोजित होने वाले पदयात्रा मेला की पूर्व से होती है प्रारंभ क्षेत्र में हनुमान जी के भक्ति हेतु जनमानस समर्पित है, जहा क्षेत्र के लोग जाम साँवली में विराजमान हनुमान जी को अपने आस्था का प्रमुख केंद्र मानते है, क्षेत्र में साल के अंतिम शनिवार आयोजित होने वाली विशाल जाम सावली पदयात्रा का आयोजन होता है, इस आयोजन में नगर से लेकर ग्रामीण क्षेत्र के भक्त नगर के हृदय स्थल गुजरी चौक में विराजमान प्राचीन हनुमान मंदिर से हाथो में भगवा ध्वज लिए पदयात्रा के शुरवात कर क्षेत्र से 38 किलोमीटर की दूरी पर स्थित जाम सांवली में विराजमान हनुमान मंदिर में नग्गे पाव पैदल चल कर ध्वज समर्पित करते है, वही पदयात्रा के मार्ग पर समाज सेवी संगठन द्वारा भक्तो की मेजबानी में चाय नाश्ता, सीतल पेय, फल, ड्राय फ्रूट एव भोजन के स्टाल लगाकर भक्तो के स्वागत हेतु स्वगतद्वार लगाकर फूलों की वर्षा करते है, क्षेत्र से निकलने वाली पदयात्रा मेला की तैयारीयो के लिये नगर के जनमानस का सराहनीय सहयोग

प्राप्त होता है, वही पदयात्रा मेला की साल भर प्रतिक्षा की

जाती है, जैसे ही पदयात्रा का समय आता है, तो नगर ग्राम में तैयारिया प्रारंभ हो जाती है। भक्तो की शक्ति ने प्रकट किए श्री राम, माता जानकी, भैया लक्ष्मण और वीर हनुमान भक्तो की शक्ति का अनोखा उदाहरण है विशाल जाम सांवली पदयात्रा, क्षेत्र में हनुमान भक्तो द्वारा सन 2010 से प्रारंभ की गयी पदयात्रा के स्वरूप को लेकर किसी ने यह नही अनुमान नहि लगाया था कि पदयात्रा के आयोजन में हजारों भक्त समिल्लित होंगे परन्तु भक्ति में शक्ति होती है, नगर के युवाओ की टोली द्वारा प्रथम 108 ध्वज लेकर निकाली पदयात्रा में हजारों भक्त जुड़ते चले गए, वही यह पदयात्रा क्षेत्र से लेकर प्रदेश तक प्रसिद्धि प्राप्त कर चुकी है, इस पदयात्रा की विशेष महत्व यह है कि यह ऐसी यात्रा है जो एक दिन में जाकर वापसी भी हो जाती है, जिसमे भक्तो को एक दिन में 38 किलोमीटर की दूरी तय करना है और सबसे अधिक भक्तो की संख्या जिसमे लगभग 50 हजार भक्त पदयात्रा में समिलित होते है, एक दिन में सबसे अधिक दूरी ओर सबसे अधिक भक्तो की संख्या होना यह पदयात्रा को प्रसिद्धि प्रदान करती है, पांडुरना जिले के मुख्यालय पांडुरना नगर में ही 114 हनुमान मंदिर होने से यहा हनुमान भक्तो की संख्या भी अधिक है, जिसको लेकर विशाल जाम सांवली पदयात्रा समिति द्वारा पदयात्रा के नव वर्ष पूर्ण होने पर क्षेत्र में अनोखी पहल कर मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम दरबार निर्माण करने का संकल्प लेकर क्षेत्र में घर घर से पीतल दान के माध्यम में पीतल संग्रहित कर दान स्वरूप पीतल से मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम, माता जानकी, भैया लक्ष्मण एव वीर हनुमान जी की 111 किलोकी प्रतिमा का निर्माण कर श्री राम दरबार को जनमानस के श्री राम दरबार को आस्था का केंद्र बनाया। 14 वे वर्ष के प्रवेश पर मेरे राम अयोध्या आ रहे थीम पर होगा पदयात्रा का आयोजन पांडुरना जिले से प्रतिवर्ष आयोजित होने वाली प्रसिध्य विशाल जाम सांवली पदयात्रा मेले की तैयारी को लेकर आयोजक समिति द्वारा बताया गया कि सनातन धर्म के प्रतीक एव हिंदुओं के आस्था के भगवान मर्यादापुरुषोत्तम प्रभु श्री राम जी के जन्म स्थल पर सैकड़ो वर्षों बाद भव्य एवम दिव्य मंदिर का निर्माण हो रहा है

liveindia24x7
Author: liveindia24x7

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज